Category: Diseases

गर्मी में ककड़ी खाने के लाज़वाब फायदे

ककड़ी लाइट ग्रीन की तरह दिखाई देती है। ककड़ी खाने में कुरकुरी और स्वादिस्ट होती है। ककड़ी खीरे की प्रजाति में आती है। ककड़ी सिर्फ और सिर्फ गर्मी के मौसम में आती है। मानव ककड़ी को अच्छी तरह धोकर कच्चा ही खाये। ककड़ी को पकाकर भी खाया जा सकता है। ककड़ी को बिना छिले खाया

पत्तेदार मेथी के गजब फायदे और नुक़सान

इस दुनिया में हरी पत्तेदार वाली सब्जिया बहुत सी होती है। हरी मेथी के पत्ते वाली सब्जी उनमे से एक है। हरी मेथी में फास्फोरस, कार्बोहाईड्रेट, वसा, लोहा, विटामिन “सी”, फाइबर, पोटैशियम, ट्राइगोनेलिन एल्केलाइड्स, गोंद, लेसीथिन, एलब्युमिन प्रोटीन, आदि चीज़े बहुत अधिक मात्रा में उपस्थित होता है। हरी मेथी में पीले रंग के रंजक तत्व

धनिया की पत्ती खाने के अलग-अलग फायदे

हरी धनिया का जूस बनाकर पीने से शरीर के अंदर की कमजोरी ख़त्म हो जाती है। मक्का का आटा, पीसी लहसुन, पीसी अदरक, पीसी धनिया, छोटे- छोटे प्याज के टुक्के , नमक मिलाकर इसकी पौकडी बनाकर खाने में बहुत टेस्टी लगता है। हरी धनिया के अंदर कैरोटीन, पोटैशियम, थायमिन, कैल्शियम, फॉस्फोरस, मैगनीज, मैग्न‍िशियम, आयरन, विटामिन

आँवला खाने के फायदे और नुकसान

आँवला का वनस्पति नाम “एम्बलोका ऑफिजिनालिस या फ़िलेंथस इम्ब्लिका” है। जबकि संस्कृत में इसे अमृता, अमृतफल, आमलकी व पंचरसा कहते है। संसार में बहुत सा फल पाया जाता है। उनमे से एक फल आँवला ऐसा है, जो जड़ी बूटियों का काम करता है।आँवला खाने से एनीमिया होने का खतरा कम हो जाता है, और स्मरण

लहसुन और उसके पत्ते के अजब चमत्कारी फायदे जो आप ने कभी सुना न देखा होगा

भारत में बहुत तरह की सब्जियाँ पायी जाती है। उनमे से एक है, लहसुन जो भारतवासियों को बहुत प्रिय है। लहसुन बारोमास आने वाली सब्जी है। ठंडी में उगाई जाने वाली लहसुन में हरे रंग की पत्तिया भी निकलती है। जो हमारे हरी प्याज के पत्तो की तरह होती है। लोग इन दोनों के पत्तो

हरे पत्तेदार प्याज के विभिन्न फायदें

आप ने बहुत तरह की प्याज देखी होगी जैसे लाल, सफेद आदि। लेकिन अब आप हरी पत्तेदार प्याज के बारे में जान जाइये। हरा प्याज बहुत स्वादिष्ट और पोषक तत्वों से भरपूर होता है। हरे पत्ते वाली प्याज के अंदर सल्फर, विटामिन “सी”, विटामिन “बी२”, पोटैशियम, मैंगनीज, क्रोमियम, फाइबर, कॉपर, विटामिन “ए” और फॉस्फोरस उपस्थित

अंगूर खाने के फायदे और नुकसान

अंगूर की पैदावार सबसे पहले मध्य पूर्व एशिया में होता है। अंगूर से सबसे पहले शराब बनना शुरू किया गया जो शिरज शहर से हुआ है। उसके बाद भारत के अन्य शहरों में इसकी खेती होती है। अंगूर को भारत के अलग-अलग शहरों में अलग-अलग नामो से जाना जाता है। जैसे मराठी में द्रखा, तमिल

केला खाने से अचूक फायदे और नुक़सान

केला एक ऐसा फल है जो साल के बारह महीनों बाज़ार में उपलब्ध होता है। केला सस्ता और हल्का सभी फलों में होता है। रोज़ाना केला खाने से कमजोरी दूर होती है। केला में दूध और चीनी मिलाकर मिक्सी में फेटकर रोज़ाना नास्ते के साथ लेने से मानव का वजन बढ़ता है। साथ ही साथ

तोरई खाने के फायदे जानकर चौंक सकते हैं

आयुर्वेद में नेनुआ को ठंडा बताया गया है। गर्मी के मौसम में खाने से शरीर के अंदर ठंडक पहुँचता है। नेनुआ में विटामिन, फाइबर, प्रोटीन और मिनरल्स भरपूर मात्रा में होता है। नेनुआ को गुजरात में “घिसोड़ा” और मराठी में “दोडकी” और शिरोल में “कोशातकी” कहते है। साथ ही साथ विदेशो में नेनुआ को स्पंजगार्ड,

मौसंबी जूस के फायदे और नुकसान

मौसम्बी का रस साबुन, शराब, फेसपैक, आदि में डाला जाता है। मौसम्बी की तीन किस्मे होती है। पहला जुमैका दूसरा निवेल तीसरा माल्टा। नेवला की किस्म उत्तरी अमेरिका में सर्वश्रेठ मानी जाती है। लोग गर्मी में लू से बचने के लिए मौसम्बी के जूस में गन्ना के रस को मिलाकर पीते है। मौसम्बी को नींबू