लहसुन और उसके पत्ते के अजब चमत्कारी फायदे

आपके रसोई में रखा लहसून भोजन का स्वाद और उसकी खुशबू तो बढ़ाता है पर क्या आपको पता है कि इसमें कई तरह के औषधीय गुण भी होते हैं! जी हां, लहसुन खाने से आप स्वस्थ और सेहतमंद रहते हैं! इतना ही नहीं रोज खाली पेट लहसुन खाने से वजन भी कम होता है! लहसून एक नेचुरल एंटी-बायोटिक है, जो कई तरह के संक्रमण को दूर रखता है. ऐसे में अगर आप अपने दिन की शुरुआत लहसुन से करें तो आपको कई फायदे मिल सकते हैं!

आपने वजन कम करने के लिए नींबू-शहद का फॉर्मूला तो जरूर अपनाया होगा! हो सकता है कि आपने ग्रीन टी का भी नुस्खा आजमाया हो लेकिन क्या आपने कभी खाली पेट लहसुन का उपाय करके देखा है?

खाली पेट लहसुन खाने के कई स्वास्थ्यवर्धक फायदे होते हैं लेकिन इसके बारे में पता कुछ ही लोगों को होता है! लहसुन एक चमत्कारी चीज है! इसमें कई तरह के औषधीय गुण होते हैं और अगर आप खाली पेट लहसुन का सेवन करते हैं तो आप इसके सारे फायदे पा सकते हैं!

कैंसर के लिए फायदेमंद

लहसुन के अंदर डायलिसिल्फ़ाइड और ऑक्सीडेटिव होता है जो मानव को तनाव से बचाता है! अगर कोई मानव जयादा चिंता करता है तो उसको कैंसर जैसी भयानक बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है! पेट और ट्यूमर का कैंसर होने की सम्भावना हो तो लहसुन की दो जवा को भूनकर खाली पेट खायें जिससे कैंसर जड़ से ख़त्म हो जाता है ! लहसुन निरोधक प्रणाली को प्रेरित करता है, कैंसर भड़काने वाले तत्वों का निर्विषीकरण करता है, साथ ही साथ नाइट्रेट के निर्माण में बाधा बनकर यह स्तन, पाचन मार्ग तथा कैंसर के इलाज में बहुत चमत्कारी है! लहसुन की पत्तियों को पत्थर पर पीसकर उसके रस को निकालर कर उससे थोड़ा गुनगुना करके उसमे थोड़ा सा सेंधा नमक डालकर बासी मुँह पीना चाहिए जो मुँह के कैंसर के लिए फायदेमंद होता है!

पेट साफ करने के लिए

लहसुन में शरीर के विषाक्त पदार्थों को साफ करने का गुण होता है! साथ ही ये पेट में मौजूद बैक्टीरिया को भी दूर करने में मददगार होता है! खासतौर पर जब इसे खाली पेट खाया जाए!

आज के समय में लोगो के पास इतना टाइम नहीं रहता है कि वो ठीक से घर का बना भोजन रोज़ खाये, जयादातर लोग बहार का भोजन खाना पसंद करते है! जिससे उनका पेट जल्दी ख़राब हो जाता है! ऐसे में उनको घर की देशी दवा करना चाहिए! देशी दवा में १५ ग्राम लहसुन के रस को एक गिलास मट्ठे में मिलाकर सुबह, दोपहर, शाम तीनो समय कुछ दिन तक पीयें, परन्तु ध्यान इस बात का रहे कि लहसुन का रस हर बार ताज़ा होना चाहिए, जिससे पेचिश जल्दी बंद हो जायेगी!

रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए

लहसुन के सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है! इससे हमारा शरीर ज्यादा बेहतर तरीके से बीमारियों का सामना कर पाता है!

लहसुन खाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्युनिटी पॉवर) बढ़ती है! इसे खाने से हमारा शरीर ज्यादा बेहतर तरीके से बीमारियों का सामना कर पाता है! यदि आपको अक्सर सर्दी-खासी की समस्या रहती है तो लहसुन आपके लिए किसी रामबाण इलाज से कम नहीं है! सर्दी-खासी की समस्या से छुटकारा पाने के लिए लहसुन की दो या तीन कली को शहद और अदरक के साथ खाएं!

हड्डियों के दर्द में फायदेमंद

आजकल हड्डियों की परेशानी छोटे से लेकर बड़े तक को हो रही है! ऐसे में वो लोग अंग्रेजी दवा तो करते है, साथ ही साथ देशी दवा भी करें इससे किसी भी तरह का कोई नुकशान नहीं होता है! लहसुन ही हड्डियों के दर्द के लिए अचूक इलाज है! क्योंकी लहसुन के अंदर ऑस्टियोपोरोसिस और अंडाइक्टोमी-प्रेरित यौगिक होता है! अगर जोड़ों के दर्द के साथ उसमे सूजन हो तो उसके ऊपर लहसुन को पीसकर उसके पेस्ट लगाने से सूजन मिट जाता है, और बासी मुँह दो लहसुन की कलियों को रोज़ाना खाने से बहुत लाभ मिलता है !

अन्य फायदे

  • खाली पेट लहसुन की दो कलियों को चबाकर गुनगुने पानी में नींबू का रस निचोड़ कर पीने से वजन कम हो जाता है!
  • ब्लड शुगर लेवल को कम करने के लिए लहसुन की पत्त‍ियों का सेवन करना बहुत फायदेमंद होता है!
  • लहसुन ब्लडप्रेशर के मरीजों के लिए दवा की तरह काम करता है!
  • लहसुन एक एंटीसेप्टिक की तरह काम करता है! यह किसी भी प्रकार के घाव को जल्दी भरने में मददगार साबित होता है!
  • दिमाग में ब्लड सकुर्लेशन को बेहतर करने में हरी लहसुन की पत्तिया सहायक होती है!
  • ठंड के मौसम में होने वाले सर्दी, जुकाम और कफ बनने की समस्या से राहत पाने के लिए नियमित रूप से लहसुन का सेवन जरूरी से करना चाहिए!
  • लहसुन को दूध में उबालकर पिलाने से बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है!
  • पेशाब रुकने पर पेट के निचले भाग में लहसुन की पुल्टिस बाँधने से मूत्राशय की निषक्रियता दूर होती है!
  • साँप तथा बिच्छू के काटे पर लहसुन की ताजी कलियाँ पीसकर लगाएँ!
  • जी मचलने पर लहसुन की कलियाँ चबा लें!
  • फ़ंगल-संक्रमण से प्रभावित जगह पर लहसुन का तेल लगा सकते है!

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »