मौसंबी जूस के फायदे और नुकसान

daily inshorts

मौसम्बी का रस साबुन, शराब, फेसपैक, आदि में डाला जाता है। मौसम्बी की तीन किस्मे होती है। पहला जुमैका दूसरा निवेल तीसरा माल्टा। नेवला की किस्म उत्तरी अमेरिका में सर्वश्रेठ मानी जाती है। लोग गर्मी में लू से बचने के लिए मौसम्बी के जूस में गन्ना के रस को मिलाकर पीते है। मौसम्बी को नींबू से बड़ा और अच्छा माना जाता है। मौसम्बी में प्रोटीन, वसा, कार्बोहाडेट, आदि कई प्रकार के तत्व पाये जाते है। कभी-कभी मौसम्बी को कुछ दिन तक नहीं खा पाते है तभी हमारा शरीर वैसा का वैसा बना रहता है।

ह्रदय के लिए फायदेमंद

मौसम्बी का बीज़, तरबूजे का बीज़, कच्चा चना इन सब को पीस कर रोज़ सुबह शहद के साथ चाटे फिर ३० मिनट के बाद गुनगुना पानी पीले। मौसम्बी को छील कर उसमे चाट मसाला, सेंधा नमक थोड़ा सा भूड़ा कर खाने से ह्रदय की परेशानी नहीं होती है। साथ ही साथ हमारे ह्रदय के रक्त को भी साफ़ करता है।

दमा और खासी में फायदेमंद

एक कप गुनगुना पानी और एक कप ताजा मौसम्बी का रस लें अब दोनों को मिला लें। अब उसमे चुटकीभर पीसा जीरा, सौंठ, आधी चुटकी कालीमिर्च और सेंधा नमक मिला कर पीने से खासी ख़त्म हो जाती है। मौसम्बी काटकर उसमे चाट मसाला, कालानमक मिलाकर खाने से दमा में आराम मिलता है। मौसम्बी के छिलके को पैर के तलवे में रगड़ने से भी दमा में आराम मिलता है।

अनिद्रा में फायदेमंद

अनिद्रा ऐसी बीमारी जो मनुष्य को और कई बीमारी को बुला लेती है। मनुष्य को जब नींद नहीं आती है वो स्लीपिंग पिल्स लेते है। तभी भी उनको नींद नहीं आती है। क्योंकि उनको टेंशन बहुत रहती है। तब वो ड्रॉक्टर के पास जाते है, वो उनको बोलते है कि आप बासी मुँह १ मौसम्बी को काली मिर्च के साथ खाये। आप को एक हफ्ते में फायदा कर जायेगा। और नींद अच्छी आने लगेगी। मौसम्बी का रस रोज़ पीने से नींद अच्छी आती है। मौसम्बी में निद्रा आने के ऐसे कई तत्व उपस्ठित रहता है।

गर्भावस्था में फायदेमंद

गर्भावस्था के समय में ड्रॉक्टर औरतो को सारी चीजें खाने को बोलते है। ख़ास कर मौसम्बी का रस पीने को बोलते है। क्योंकि उसमे आयरन, पोटैशियम रहता है। गर्भवती औरतो को चाहिए कि मौसम्बी को सेंधानमक के साथ ऐसे ही खाये तो बच्चे के जन्म के समय किसी भी तरह कोई परेशानी नहीं होती है। जिससे गर्भ में बच्चा धीरे-धीरे बढ़ सके। बच्चा नार्मल पैदा हो सके।

आँखो के लिए फायदेमंद

मौसम्बी के बीए को पीसकर उसमे एलोवीरा जेल मिला के आँखो के ऊपर लगाने से आँखो ठण्ड पहुंचती है। मौसम्बी के अंदर एंटीऑक्सिडेंट और विटामिन “ई” गुण पाया जाता है। जो ऑंखों के संक्रमण से सुरछा करता है। मौसम्बी के रस की दो-तीन बूंद ठन्डे पानी में मिलाकर आँखो को धोने से आँखो की कंजंक्टिवाइटिस (नेत्रश्‍लेष्‍मलाशोथ) से सुरछा होती है। मौसम्बी के बीज़ को आँखो के नीचे रगड़ने से काले धब्बे ख़त्म हो जाता है।

अन्य फायदे

● मौसम्बी का जूस पीने से स्किन टाइट होती है।
● मौसम्बी के जूस में आंवला रस और शहद मिलाकर सुबह खाली पेट पीने से ब्लड शुगर  लेवल कण्ट्रोल में रहता है।
● मौसम्बी के जूस में एक चुटकी काला नमक, ६-७ बूँद अदरक का रस डालकर पीने से सर्दी जुकाम और खासी ठीक हो जाती है।
● मौसम्बी जूस एक बढ़िया डेटॉक्स एजेंट है।
● मौसम्बी का जूस पीने से मुँह से बदबू और खून नहीं निकलता है।
● मौसम्बी में अल्‍सर के प्रभाव को कम करने की क्षमता होती है।
● मौसम्बी का रस बालों के लिए फायदेमंद होता है।
● मौसम्बी का जूस रोज़ाना पीने से पाचन शक्ति सही रहती है।

नुकसान

● गर्भावस्था में मौसम्बी का जूस ज्यादा नहीं पीना चाहिए।
● मौसम्बी को छोटे बच्चो से दूर रखना चाहिए।
● मौसम्बी के बीज को बालो में नहीं लगाना चाहिए।