बैंगन के गज़ब फायदे किसे खाना चाहिए और किसे नहीं

बैंगन के गज़ब फायदे किसे खाना चाहिए और किसे नहीं

बैंगन एक प्रकार की सब्जी है। बैंगन में फास्फोरस, कॉपर उपस्थित होता है लेकिन कोलेस्ट्रोल या संतृप्त वसा नहीं पाया जाता है। बैंगन से कई तरह के व्यंजन बनाये जाते है जैसे सूप, स्टू, सॉस, पकोड़े, दाल आदि व्यंजन बनाये जाते है। बैंगन सांस्कृतिक विरासत में सबसे अधिक बहुमुखी और कार्यात्मक खाद्य पदार्थों में से एक है। यह न केवल स्वादिष्ट होता है बल्कि यह हमारे स्वास्थ्य के लिए भी बहुत लाभकारी है। बैंगन फाइबर और कम घुलनशील कार्बोहाइड्रेट का एक बहुत अमीर स्रोत हैं। इस प्रकार वे रक्त शर्करा के स्तर के नियमन के लिए बेहद फायदेमंद है और यह भी ग्लूकोज के अवशोषण को नियंत्रित करने के लिए। बैंगन मधुमेह से पीड़ित लोगों के लिए सबसे अच्छा विकल्प है।

वजन कम करने में सहायक

बैंगन फास्फोरस युक्त होता है जो कैलोरी को जलाती है जिसकी वजह से लोग कम खाना खाते है। ऐसे में ये वजन कम करने वालो के लिए ये एक अच्छा आहार है । क्योंकि बैंगन में पानी की मात्रा बहुत होती है। यह एक स्वस्थ आहार के रूप में आदर्श मन जाता है। यह घ्रेलिन हार्मोन को बनने से रोकती है हार्मोन हमारे दिमाग को बताता है की हमे भूख लगी है। बैंगन को अपनी डाइट में शामिल करें, इससे आपका वज़न नियंत्रित रहेगा साथ ही काफी कम समय में आपका वज़न कम हो जाएगा।

रोग को ख़त्म करना

बैंगन कार्डियो वैस्कुलर बीमारियों और स्ट्रोक की संभावना को नष्ट कर देता है। जो लोग धीरे-धीरे धूम्रपान छोड़ना चाहते हैं, बैंगन उन लोगों को मदद करता है, क्योंकि बैंगन मैं निकोटीन की छोटी राशि है। बैंगन एक प्रभावी विरोधी वायरल और विरोधी बैक्टीरियल स्रोत बनाने के लिए जो विटामिन सी की अच्छी मात्रा में है।

हड्डियों के लिए लाभकारी

बैंगन में पोटैशियम, फास्फोरस उपस्थित होता है। लेकिन फास्फोरस ग्रहण शक्ति को बढ़ाता है। बैंगन हड्डियों के पतन और ऑस्टियोपोरोसीस बहुत उपयोगी है। इस व्यंजन में फिनोलिक यौगिक पाया जाता है जो ऑस्टियोपोरोसीस लक्षण को घटाता है तथा हड्डियों के घनत्व को बढ़ाता है। इसमें लोहा भी होता है जो हड्डियों को स्वस्थ और मजबूत बनता है।

गर्भवती महिलाऔ के लिए लाभकारी

बैंगन में रेडियम पाया जाता है रेडियम सीधे न्यूलर ट्यूब के दोष से शिशुयो की सुरछा करता है इसलिए गर्भवती महिलाऔ के लिए बैंगन खाना बहुत जरूरी होता है। इसलिए ड्रॉक्टर महिलाओ में फोलिक एसिड कमी को दूर करने के लिए बैंगन खाने की सलाह देते है।

त्वचा के लिए लाभकारी

बैंगन खनिज, विटामिन, फाइबर से भरा रहता है। यह हमारी बॉडी के अंदर की गंदगी साफ़ कर के त्वचा को चमकाती है। बैंगन हमारी उम्र बढ़ने के लक्षण को कम करती है। सूरज की किरण से हमारी त्वचा बेजान और सुस्त हो जाती है। अतः बैगन को पीस कर शहद के साथ मिक्स कर के फेस पर लगाने से बेजान और सुस्त त्वचा चमकदार हो जाती है । यह त्वचा को हाइड्रेटेड करने में मदद करता है । सर्दियों में ठंड के कारण स्क्रीन की नमी चली जाती है। साथ ही साथ स्क्रीन में खुजली भी होने लगती है इसलिए नमी को बनाये रखने के लिए हमे बैंगन का सेवन खूब करना चाइये।

अन्य फायदे

१- बैंगन का रोजाना सेवन कैंसर को दूर रखने में भी मदद करता है।
२- बैंगन के रस का इस्तेमाल दांत दर्द में दर्द निरोधक की तरह काम करता है इसके रस से दांतों के दर्द में आराम मिलता है। साथ ही इसकी जड़ का इस्तेमाल अस्थमा की रोकथाम में भी किया जाता है।
३- बैंगन को किसी भी तरह की डिश जैसे पिज्जा, पास्ता या सांभर में भी डाल सकते हैं।
४- यदि लोग धीरे-धीरे धूम्रपान छोड़ना चाहते हैं तो बैंगन उन लोगों को मदद करता है, क्योंकि बैंगन मैं निकोटीन की छोटी राशि है।
५- चुल्हे पर भुने हुए बैंगन में शहद मिलाकर खाना चाहिए। अतः मानना है कि ऐसा प्रयोग करने से शरीर में हिमगोलोबिन घट जाता है।
६- बैंगन खाने से कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम बना रहता है। बैंगन में पोटेशियम व मैंगनीशियम की अधिकता होती है जिसकी वजह से कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ने नहीं पाता है।
७- बैंगन को काटने के बाद उसे नमक वाले पानी में कुछ देर के लिए रखें। इससे बैंगन में मौजूद कंपाउंड खत्म हो जाते हैं, जिस वजह से बैंगन में
कड़वापन आता है।
८- बैंगन यह एक प्रभावी विरोधी वायरल और विरोधी बैक्टीरियल स्रोत बनाने के लिए जो विटामिन सी की अच्छी मात्रा में है।
९ – सब्जी बनाते समय इसका डंठल व्यर्थ समझकर फेंकना नहीं चाहिए, क्योंकि इसमें पौष्टिक तत्वों की अधिकता होती है।
१० – कार्बोहाइड्रेट और कम हाई फाइबर के तत्‍व होने के कारण यह मधुमेह रोगियों के लिये बहुत अच्‍छा आहार है। इसको नियमित खाने से आपका शुगर लेवल कम होगा।

नुकसान

१- ज्यादा बैंगन खाने से गुठनो में दर्द होता है।
२- अगर बैंगन खाने से दाने आते है तो इसको ना खाये।

Add a Comment

Your email address will not be published.