टमाटर के सेवन से होंगे ये चमत्कारी फायदे

हमारे भारत देश में बहुत सी सब्जिया मिलती है । इसलिए भारत को सब्जियों का देश कहा जाता है। सब सब्जियों में टमाटर एक ऐसी सब्जी जो कई तरह से बनाई जा सकती है। टमाटर सब्जी नहीं, बल्कि पौष्टिक व गुणकारी फल है। टमाटर में भरपूर मात्रा में कैल्शियम, फास्फोरस , विटामिन सी , पोटाश, मैगजीन, और लौह पाये जाते हैं। सर्दियों के मौसम में टमाटर का सूप भी लोग पीते हैं। लोग टमाटर से सांस कैचाअप, चटनी, जैम और विभिन्न व्यंजनों का सेवन किया जाता है। टमाटर का स्वाद खाटा होता है। इसके खट्टे स्वाद के कारण इसमें साइट्रिक एसिड और मैलिक एसिड पाया जाता है। टमाटर में विटामिन ‘ए’ काफी मात्रा में पाया जाता है। एसिडिटी की शिकायत होने पर टमाटरों की खुराक बढ़ाने से यह शिकायत दूर हो जाती है। टमाटर में केवल 12 कैलोरीज होती है, इसलिए इसे पतला होने के भोजन के लिए उपयुक्त माना जाता है। गर्भावस्था के दौरान स्त्रियों के शरीर में लौह तत्व की कमी को पूरा करने वाला टमाटर का सेवन खूब किया जाना चाहिए। कार्बोहाइड्रेट की मात्रा कम होने के कारण इसे एक उत्तम भोजन माना जाता है। टमाटर से पाचन शक्ति बढ़ती है।

त्वचा के लिए चमत्कारी

टमाटर में लाइकोपीन नामक एक एंटीऑक्सिडेंट पाया जाता है। टमाटर त्वचा को सूरज की हानिकारक किरणों के नुक्सान से बचाता है। टमाटर का रोज़ाना सेवन से आपकी की त्वचा में चार – चाँद लग जाता है। चेहरे पर बड़े रोम छिद्रों को कम करने के लिए टमाटर का इस्तेमाल किया जा सकता है। त्वचा पर टमाटर के गूदे को रगड़ना एक स्वस्थ चमकदार त्वचा को पुनर्जीवित करने का एक सिंपल तरीका है टमाटर का रस हमें त्वचा की रंगत कम होने से, मुहांसों से बचाता है। टमाटर तैलीय त्वचा पर प्रभावी रूप से कार्य करता है। और रोम छिद्र को बंद करता है। टमाटर के रस का त्वचा के लिए बहुत से लाभ है। टमाटर के रस को निचोड़कर खीरे के रस के साथ मिलाएं , चेहरे पर कुछ मिनट के लिए लगाए और फिर धुल ले। यह तैलीय त्वचा का बेहतरीन हल है। यह मुँहासे और चकत्ते या मामूली जलने के निशान के इलाज में मदद करता है।

बालों की सुरछा में लाभकारी

टमाटर में विशेष रूप से विटामिन ए और लौह उपस्थित होता है। जो आपके बालों को मजबूत, स्वस्थ व घना बनाने में मदद करते है। टमाटर पाए जाने वाले अम्ल बालों के पी.एच. स्तर को संतुलित करने में मदद करता है तथा बालों के रंग और रंजक को दूर करने और बालों के प्राकृतिक रंग को बनाए रखने में सहायता प्रदान करते है। १ गिलास रोज़ टमाटर का जूस पीजिये जिससे आपके बाल खूब घने और लम्बे होंगे। टमाटर का रस बालों को टूटने से रोकने के लिए बेहद असरदार है।

आँखो में लाभकारी

टमाटर में विटामिन “सी” और “ए” उच्च मात्रा में उपस्थित होता है। जो आंखों की ज्योति को विकसित करता है। टमाटर में विटामिन “सी” और “ए” के आलावा फाइटोकैमिकल एंटीऑक्सिडेंट्स ज़ेक्सैथिन, ल्यूटिन और लाइकोपीन पाया जाता है। टमाटर में यह सभी यौगिक आँखो की रोशनी को किसी भी प्रकार से नुक्सान नहीं पहुंचाते हैं। टमाटर मोतियाबिंद जैसी बीमारी को भी कम कर सकते हैं। छोटे बच्चों में आंखों की ज्योति की कमी का अनुभव न हो इसके लिए उन्हें टमाटर खिलाना चाहिए।

पेट के लिए लाभकारी

टमाटर पेट केलिए बहुत ही चमत्कारी सब्जी है। अगर पेट में कीड़े हो तो टमाटर के सूप में पिसी हुई कालीमिर्च , सेंधा नमक और उसमे कुछ हींग का छौंका लगा दे फिर सुबह खाली पेट पीने से पेट के कीड़े मर जायेंगे।

सूजन में फायदे मंद

टमाटर में कैरोटीनॉयड जैसे एंटी-इंफ्लेमेटरी एजेंट्स और बायो-फ्लेवोनोइड्स तत्व उपस्थित होते है। टमाटर के रोजाना सेवन से टी.एन.एफ.-अल्फा के रक्त को कम किया जाता है। जो ४०% सूजन का कारण बना है । टमाटर, हृदय रोग, कैंसर, ऑस्टियोपोरोसिस और अल्जाइमर जैसी पुरानी, अपक्षयी स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित लोगों के लिए एक अच्छा भोजन है। रोज़ाना हल्के से मध्यम दर्द महसूस करने वाले मनुष्य अक्सर सूजन का शिकार बन जाते है|

टमाटर खाने के अन्य फायदे

१- टमाटर के रस में थोडी-सी शर्करा मिलाकर पीने से पित्त की विकृति से उत्पन्न रोग दूर होते है ।
२- गठिया रोग में एक गिलास टमाटर के रस को सोंठ के साथ तैयार करें व इसमें एक चम्मच अजवायन का चूर्ण भी मिलाये और सुबह-शाम पीने से लाभ होता है।
३- टमाटर के नित्य सेवन से श्वास नली का शोथ कम होता है साथ ही खांसी में भी राहत होती है।
४- दांतों में खून की समस्या का अनुभव होते ही रोजाना दो सौ ग्राम टमाटर का रस सुबह-शाम पीने से बहुत लाभ होता है।
५- टमाटर में मौजूद विटामिन C चर्मरोगों को रोकता है ।
६- टमाटर के सौ ग्राम रस में पचास ग्राम नारियल का तेल मिलाकर, शरीर पर मलकर कुछ देर बाद स्नान करने से खाज-खुजली से राहत मिलेगी।
७- टमाटरों की खटाई शरीर में शर्करा की मात्रा को कम करती है। इसलिए मधुमेह रोगी को रोजाना टमाटर का सेवन करना चाहिए।
८- पोदीना, धनिया ,अदरक और सेंधा नमक को टमाटर के साथ पीसकर चटनी बनाकर भोजन के साथ सेवन करने से भूख बढ़ती है।
९- दो सौ ग्राम टमाटर का रस सुबह-शाम पीने से रतौंधी की विकृति नष्ट होती है।
१०- पके टमाटरों का रस रोजाना पिलाने से बच्चों के नाक से नकसीर की समस्या दूर होती है।

टमाटर खाने के नुकसान

१- तेज खांसी, दस्त और पथरी के रोगी को टमाटर नहीं खाना चाहिए।
२- यदि पहले से ही गुर्दे की समस्याओं से ग्रस्त है, तो इसके सेवन ना करें।
३- टमाटर का अधिक सेवन करने से गैस जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है।
४- टमाटर का लंबी अवधि के लिए लगातार खपत आपकी त्वचा का रंग बदल सकती है। आपकी त्वचा पर नारंगी रंग का थोड़ा सा प्रतिबिम्ब नज़र आ सकता है।

Add a Comment

Your email address will not be published.

Share