कटहल के लाभ और उसके उपयोग

कटहल के लाभ और उसके उपयोग

कटहल के बाहरी सतह पर छोटे-छोटे काँटे होते हैं। जब कटहल कच्चा होता है तब उसे सब्जी के रूप में खाया जाता है। कटहल के पकने पर उसके अंदर के कोवा को निकाल कर फल के रूप में खाया जाता है। और उसके बीच वाले भाग को सब्जी के रूप में खाया जाता है। रामबाण औषधीय कटहल है।

जोड़ों के दर्द में रामबाण

कटहल के छिलकों से निकलने वाला दूध गुठना सूजन, घाव और कटे-फ़टे अंगों पर लगाया जाए तो आराम मिलता है। इसी दूध से जोड़ों पर मालिश की जाए तो जोड़ों के दर्द में आराम मिलता है। कटहल में ढ़ेरों ऐसे तत्व होते हैं जो शरीर की कई आवश्यकताओं को पूरा करते हैं। इसमें भरपूर फाइबर होता है अच्छी बात ये है कि इसमें वसा नहीं होती है। कटहल पोषक तत्व है जो कि अवशोषण में मदद करता है। मैग्नीशियम और कैल्शियम हड्डियों को मजबूत करने के लिए एक साथ काम करते हैं और अस्थि-संबंधी विकारों जैसे ऑस्टियोपोरोसिस को रोकते हैं। इसके अलावा, पोटैशियम, कैल्शियम के नुकसान को रोकता है और हड्डियों में कैल्शियम घनत्व में सुधार करता है।

कैंसर के लिए फायदेमंद

कटहल कैंसर से लड़ता है क्योंकि इसमें रेडियम और एंटीऑक्सिडेंट्स उपस्थित होता है। कटहल कोलन और त्वचा कैंसर की बीमारी को रोकने में मदद करता है। इसमें मौजूद विटामिन सी मुक्त कण को ख़त्म करता है जो कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं और कैंसर का कारण बन सकते हैं। इसमें विटामिन , मैंगनीज और आहार फाइबर भी शामिल हैं जो कैंसर के जोखिम को कम करने में मदद करते हैं। इसके अलावा जैकफ्रूट में फ़िटेन्यूमेंट्स होते हैं, जैसे लिग्नांस, आइफ्लोवोन और सैपोनिन जो कि शरीर में कैंसर के कारण मुक्त कणों को खत्म करने में मदद करते हैं।

त्वचा के लिए उपयोगी

ज्यादातर लोग अपनी रूखी त्वचा को लेकर काफी परेशान रहते हैं। ऐसे में कटहल का रस निकलकर शरीर की त्वचा का मसाज करें और उस समय तक करें जब तक कटहल का रस सूख नहीं जाता हैं। रस सूख जाने के १५ मिनट के बाद अपने चेहरे को गुलाब जल से धोना चाहिए, कटहल का रस लगाने से आपकी त्वचा जल्द ही चमकने लगाती है।

डायबिटीज और ब्लड प्रेशर में लाभदायक

मधुमेह रोगी और उच्च रक्त दाब से पीड़ित रोगी को कटहल की ताजी पत्तियों के रस निकलकर उपयोग करना चाहिए। कटहल खाने से हड्डियां भी मजबूत होती है। इसकी विटामिन सामग्री मुक्त कणों के हानिकारक प्रभावों से लड़ने में सहायता करती है। पोटैशियम भी हृदय को मजबूत करने में सहायक होता है और खून में हीमोग्लोबिन स्तर को बढ़ाने में मदद करता है।

नुक्सान

१- दूध, नींबू, कटहल और करेला साथ में खाने से शारीरिक परेशानी हो सकती है।
२- कटहल के साथ कमलनाल, सभी नमकयुक्त व अम्लीय पदार्थ नहीं खाना चाहिए।
३- कटहल खाने से किडनी ख़राब होने का खतरा होता है।